भूलकर भी इस पोजीशन में ना सोए गर्भवती महिलाएं, वरना पड़ सकता हैं भारी

भूलकर भी इस पोजीशन में ना सोए गर्भवती महिलाएं, वरना पड़ सकता हैं भारी

महिलाओं को गर्भवस्था में अपनी सेहत का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। इसके साथ ही बच्चे की सेहत को भी नुकशान पहुँच सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही सोने की पोजीशन के बारे में बताने जा रहे जो आपको राहत प्रदान कर सकती है। गर्भावस्था के अंतिम हफ्ते में गर्भवती महिलाओं का पीठ के बल सोना 10 सिगरेट पीने जितना खतरनाक हो सकता है। 

ऑकलैंड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के अनुसार, जो महिला अपने गर्भावस्था के त्रैमासिक अवधि के दौरान एक तरफ मुंह करके लेटने की बजाय पीठ के बल लेटती है, तो उनके जन्म लेने वाले बच्चे का वजन कम होने की संभावना तीन गुना तक बढ़ जाती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि गर्भावस्था के अंतिम दिनों में पीठ के बल लेटने से बच्चे में रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है। पीठ के बल लेटने पर मां के बड़े हुए गर्भ आकार की वजह से गर्भ नाल संकुचित हो जाती है।

किसी भी तरह की बीमारी से बचे रहने के लिए गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से व्यायाम करना भी जरूरी है। व्यायाम से उनका ब्लड शुगर नियंत्रित रहने के साथ-साथ मां और बच्चे में टाइप-2 डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा भी कम होता है।


हमेशा पतले और फिट रहना चाहते हैं तो ट्राई करें ये 5 ट्रिक्स

हमेशा पतले और फिट रहना चाहते हैं तो ट्राई करें ये 5 ट्रिक्स

वज़न घटाने की कहानियों का अंत अक्सर खुशी से भरा नहीं होता बल्कि ये सफर कई तरह के उतार-चढ़ाव से भरा होता है। संतुलित और सही वज़न को बनाए रखना भी काफी मुश्किल है। जब हम वज़न घटाने के लिए प्लान तैयार करते हैं और वह काम करने लगता है, तो आप रिलेक्स हो जाते हैं, जिससे वज़न दोबारा बढ़ जाता है।

वज़न कम करने में इतनी मशक्कत शामिल है, जिससे लगता है कि हमेशा फिट रहना कितना मुश्किल काम है। हालांकि, देखा जाए तो अच्छा वज़न बनाए रखना कोई मुश्किल काम नहीं है। आज हम बता रहे हैं 5 ऐसी ट्रिक्स जिनकी मदद से आप लंबे समय तक फिट और पतले रह सकते हैं।

प्लेट नियम का पालन करें

कई फिटनेस एक्सपर्ट्स का मानना है कि खाते वक्त कैलोरीज़ का ख़्याल रखना वज़न घटाने में फायदेमंद हो सकता है। हालांकि, कुछ का मानना है कि वज़न कम करने के लिए प्लेट के नियम का पालन फायदा पहुंचाता है। अपनी प्लेट को ब्रोकली और गाजर जैसी नॉन-स्टार्च सब्ज़ियों से आधा भर लेने से आपका फाइबर का सेवन पूरा हो जाएगा। इसके अलावा अपनी प्लेट का एक चौथाई हिस्सा होल-ग्रेन्स, बीन्स और आलू जैसे कार्बज़ से भरें और बाकी बचे हिस्से में प्रोटीन।

डाइटिंग न करें

कीटो से लेकर इंटरमिटेंट डाइट तक, लोग वज़न कम के लिए कौन सा तरीका नहीं अपनाते। इन तरीकों से आपका वज़न जल्दी कम तो ज़रूर हो जाएगा लेकिन जल्द ही दोबारा बढ़ भी जाएगा। इसलिए सही तरीके से वज़न कम करने के लिए संतुलित आहार लें, और शरीर में किसी चीज़ की कमी न होने दें।

खाना तब खाएं जब भूख लगे

जब किसी को भूख लगती है, तो स्वस्थ और भरपेट भोजन अधिक आकर्षित करता है। हालांकि, जब कोई बेचैन, तनाव या बोर हो रहा होता है, तो उसे पिज़्ज़ा, बर्गर और मीठा खाने का ज़्यादा दिल चाहने लगता है। जिसकी वजह से आपके शरीर को किसी तरह का फायदा नहीं पहुंचता लेकिन कैलोरी ज़रूर बढ़ जाती है।


नट्स खूब खाएं

खाने के बीच में जब भी भूख लगे तो बादाम, मूंगफली, अखरोट और काजू खाएं। इनमें हाई फैट्स होते हैं, लेकिन फिर भी इससे वज़न नहीं बढ़ता। मेवों के सेवन से न सिर्फ वज़न कम होता है बल्कि दिल के स्वास्थ्य और त्वचा को भी फायदा पहुंचता है।

छोटे मील्स लें

शरीर में फैट्स जमा होने के प्रमुख कारणों में से एक है एक साथ अस्वस्थ प्रोसेस्ड फूड खा लेना। ऐसा तब होता है जब आपको भयानक भूख लगती है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि हर थोड़ी देर में छोटे-छोटे मील्स लेने से आपका पेट भरा रहेगा और आप जंक फूड खाने से बचेंगे, जिससे वज़न कम होने में भी मदद मिलेगी।