बच्चों और महिलाओं में पोषण की कमी से हो सकती हैं ये दिक्कतें

बच्चों और महिलाओं में पोषण की कमी से हो सकती हैं ये दिक्कतें

सेहत के लिए जानना जरूरी है कि कब, क्या और कितना खाना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान यह और जरूरी होता है, क्योंकि आपके संग बच्चे की सेहत का सवाल भी होता है। हालांकि, भारत में पोषण के कुछ फैक्ट इसकी दुखद तस्वीर पेश करते हैं।

भारत में 26.8 फीसदी महिलाओं की शादी 18 साल से पहले हो जाती है। इसकी वजह से 22.9 प्रतिशत महिलाएं प्रेग्नेंसी के समय कम वजन की होती हैं। यही कारण है कि भारत में 58 फीसदी महिलाएं एनीमिया की शिकार हैं।

गर्भावस्था के दौरान पोषण इसलिए भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि आपके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं। बच्चे की ग्रोथ के लिए यह काफी अहम भी है। इस दौरान फीटल ग्रोथ रिस्ट्रिक्शन (एफजीआर) का जोखिम काफी होता है। दुनियाभर में इसकी वजह से एक-चौथाई बच्चे काल के गाल में समा जाते हैं। खराब पोषण की वजह से बच्चे समुचित वजन हासिल नहीं कर पाते हैं। वहीं, कुछ मामलों में इसकी वजह से बच्चों का कॉगनिटिव विकास नहीं हो पाता है।

वयस्क रोग की भ्रूण उत्पत्ति

ऐसा स्वीकार किया जा चुका है कि गंभीर बीमारियों की बड़ी वजह खराब लाइफस्टाइल है। कोरोनरी हार्ट डिजीज, डाइबिटीज मेलिटस और हाइपरटेंशन फेटल लाइफ न्यूट्रिशन के बाई-प्रोडक्ट्स होते हैं। फीटल लाइफ के समय महिलाओं के भूखे रहने से इंसुलिन रजिस्टेंस सिंड्रोम होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में गर्भावस्था को दौरान बेहतर न्यूट्रिशन जरूरी है, क्योंकि इससे बाल मृत्यु दर, पैटर्न बर्थ, कम वजन के बच्चे पैदा होने जैसी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता है।

मां के समुचित पोषण के ये हैं असर-

-मां के माइक्रोन्यूट्रिएंट स्तर में सुधार

- कम वजन के बच्चों में कमी

-पोस्ट डिलीवरी ब्लीडिंग एमएमआर में कमी

-मातृत्व एनीमिया में कमी, प्रीमैच्योर बेबी में कमी

-गर्भपात में कमी, दिमाग के नुकसान में कमी

मातृत्व पोषण को ऐसे सुधारें

स्वस्थ खान-पान के लिए काउंसिलिंग करें। बैलेंस्ड एनर्जी और प्रोटीन डाइटरी सप्लीमेंट्स लें। फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन (400 माइक्रोग्राम) पहले ट्राइमिस्टर में लें। आयरन और फोलिक एसिड दूसरी तिमाही में रोजाना लें। कैल्शियम सप्लीमेंट्स दूसरी तिमाही में रोजाना लें। कैफीन का सेवन कम करें। पास्चुराइज्ड दूध ही लें। बिना पका और कम पका खाना न लें। बिना पका मीट भी न लें। किसी भी फल-सब्जी को धोकर खाएं। खाना खाने से पहले हाथ धोएं। बागवानी करते समय दास्ताने पहनें और हाथों को अच्छी तरह धोएं।

गर्भावस्था में डाइट

-प्रेग्नेंसी में अतिरिक्त ऊर्जा के रूप में 350 किलो कैलोरी की आवश्यकता होती है

-दूसरी और तीसरी तिमाही में पोषक स्नैक्स जरूरी है

-कम वजन वाली प्रेग्नेंट महिलाएं एक अतिरिक्त स्नैक्स लें। अधिक वजह वाली महिलाएं पूरे दिन में छोटे-छोटे मील (खाना) लें।

-कम पोषण वाला खाना खाने की वजह से महिलाओं को चक्कर आना, मितली आना, भूख कम लगना जैसे समस्याएं होती हैं।


बहुत ही आसानी से पा सकते हैं बढ़ते वजन से छुटकारा, बस करने होंगे रूटीन में ये जरूरी बदलाव

बहुत ही आसानी से पा सकते हैं बढ़ते वजन से छुटकारा, बस करने होंगे रूटीन में ये जरूरी बदलाव

बढ़े हुए वजन से निजात पाने के लिए अपने खानपान में कुछ जरूरी बदलाव करके अच्छे परिणाम ला सकती हैं। अभी क्योंकि आप घर में हैं तो ये बदलाव मुमकिन भी हैं। सबसे पहले सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक का एक नियम बनाएं। आइए जानते हैं क्या करना है और क्या नहीं। 

1. सुबह समय से उठना, योगाभ्यास करना या सुबह की सैर करना, यह आपकी दिनचर्या का हिस्सा होना जरूरी है।

2. दिन की शुरुआत एक गिलास गर्म पानी में बेसिल सीड्स (जिसको सब्जा के बीज भी बोलते हैं) लेकर करें। वैसे तो इसकी तासीर ठंडी होती है, लेकिन यह हमारे पेट से चर्बी को कम करने में लाभकारी होती है साथ ही दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाने में लाभप्रद है। कारण, इसमें फाइबर बहुत होता है।

3. इसके बाद नाश्ते में प्रोटीन युक्त भोजन लें। इससे पूरे दिन कार्य करने की ऊर्जा मिलती रहेगी।

4. अपने भोजन में प्रतिदिन मौसमी फलों और हरी सब्जियों का उपयोग करें। विटामिन सी से भरपूर फल आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं और वजन कम करने में भी सहायक होते हैं, जैसे मौसमी, संतरा, पाइनएपल, कीवी, आम, नींबू आदि। ये सभी विटामिन सी के उत्तम स्रोत हैं साथ ही हमारे भोजन में फाइबर और लिक्विड की मात्रा को बढ़ाते हैं। इससे गíमयों में शरीर अच्छी तरह हाइड्रेट रहता है।

5. ग्रीन टी, फल और ताजे फलों का रस, नारियल पानी, छाछ, नींबू पानी इन सब का उपयोग वजन कम करने में बहुत लाभदायक होता है।

6. दोपहर के भोजन में दाल का सेवन अवश्य करें साथ ही मौसमी सब्जियों का भी।

7. रात का भोजन बहुत देर से न करें। रात में सोने से पहले हल्दी मिले दूध का सेवन करें। इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और नींद भी अच्छी आती है।

8. इन सब बातों को ध्यान में रखकर आप घर बैठे अपने बढ़ते हुए वजन पर नियंत्रण पा सकती हैं।


Nia Sharma ने रवि दुबे को बताया 'बेस्ट किसर मैन' तो अब एक्टर ने किया रिएक्ट, कहा...       कल ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ होंगी ये वेब सीरीज़ और फ़िल्में       Kiston Song: जाह्नवी कपूर-राजकुमार राव की फिल्म 'रूही' का दूसरा गाना 'किस्तों' रिलीज       Zeenat Aman के इंडस्ट्री में इतने साल पूरे होने पर भावुक हुईं पाकिस्तानी एक्ट्रेस सोमी अली       इस एक्ट्रेस के साथ जब शख्स ने भीड़ में की ऐसी हरकत, एक्ट्रेस भी हुईं हैरान       इन खिलाड़ियों को मिली जगह, इंग्लैंड के खिलाफ T20 सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान       जिम को देखकर चौंके भारतीय खिलाड़ी, दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम के मुरीद हुए क्रिकेटर       पहले उनके खिलाफ खेला, अब उनके साथ खेलने को बेताब हूं : राहुल तेवतिया       T20 सीरीज के लिए जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी का चयन क्यों नहीं हुआ       इंग्लैंड के खिलाफ T20 और वनडे सीरीज में कमेंट्री करेगा ये भारतीय विकेटकीपर       कस्तूरबा गांधी: सफलता के पीछे रहा अहम योगदान, बापू का हर कदम पर दिया साथ       जिनके निधन पर आज रो रहा देश का हर किसान, जानिए कौन हैं दातार सिंह       महाराष्ट्र में मचा हाहाकार, 34 जिलों में तत्काल हाई अलर्ट जारी       नारायणसामी ने दिया इस्तीफा: पुडुचेरी में गिरी कांग्रेस सरकार       7 बार चुनकर पहुंचे थे लोकसभा, मुंबई के होटल में मिला इस दिग्गज नेता का शव       लाइलाज नहीं है डिप्रेशन और कम उम्र में भी हो सकती है इसकी समस्या, जानें       बहुत ही आसानी से पा सकते हैं बढ़ते वजन से छुटकारा, बस करने होंगे रूटीन में ये जरूरी बदलाव       शुगर लेवल कंट्रोल करना है तो नाश्ते में शामिल करें ये 5 जादुई चीज़ें       डेंगू में रामबाण इलाज है बकरी का दूध, जानें       गर्मियों में कूल और हेल्दी रहने के लिए खाएं फ्रूट कस्टर्ड, जानें