जापानी लोगों के जवां और स्लिम रहने का राज़

जापानी लोगों के जवां और स्लिम रहने का राज़

एक बहुत ही खूबसूरत देश है। हरे-भरे पहाड़, रंग-बिरंगा कल्चर, नीला समुद्र, डिलीशियस स्ट्रीट फूड और यहां के मिलनसार लोग इस जगह की खूबसूरती को दोगुना करते हैं। जब आप कभी जापान जाएंगे तो आपको एक अजीब चीज़ जो देखने को मिलेगी वो है कि वहां 50 साल की महिला भी 30 की ही नजर आती है। ये मत सोचिएगा कि इसके लिए वो कोई ब्यूटी ट्रीटमेंट का इस्तेमाल करती हैं क्योंकि ये फर्क पुरूषों में भी देखने को मिलता है। तो क्या है इसका राज़, ये जानने के लिए आपको पढ़ना होगा ये लेख और साथ ही इसके बाद कुछ जरूरी बदलाव, जिससे आप भी आसानी से बढ़ती उम्र के असर को थामने में कामयाब हो सकते हैं।

ग्रीन टी पीना

जापानी महिलाओं को ग्रीन टी पीना बहुत पसंद होता है। अगर आप जापान में किसी के घर जाएंगे तो वहां सबसे पहले आपको ग्रीन टी ही ऑफर की जाती है। ग्रीन टी बहुत ही उच्च गुणवत्ता वाली पत्तियों को सुखाकर उनका पाउडर बनाकर तैयार की जाती है। फिर इस पाउडर को उबलते पानी में मिक्स कर चाय तैयार होती है। ये चाय सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है। एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर ग्रीन टी बढ़ती उम्र के असर को थामने के साथ ही वजन घटाने में भी कारगर है।फर्मेंटेंड फूड का सेवन

फर्मेंटेशन की प्रक्रिया के दौरान लैक्टोबैसिल नामक कम्पाउंड्स का निर्माण होता है। पेट, त्वचा आदि से संबंधित रोगों से बचाव के लिए इस प्रकार के खाने का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा मात्रा में करना चाहिए। इस तरह के भोजन में अन्य भोजन के मुकाबले कई ज्यादा न्यूट्रिएंट्स, मिनरल्स व प्रोटीन पाए जाते है। फर्मेंटेशन खाने के नेचुरल न्यूट्रिएंट्स को बचाकर रखता है और फायदेमंद एंजाइम्स, ओमेगा-3 फैटी एसिड्स बनाता है। डाइजेशन दुरूस्त रखने के साथ ही ये फूड वजन भी कम करते हैं।

सीफूड का इस्तेमाल

जापानीज़ लोग बाकी लोगों की तुलना में रेड मीट की जगह सीफूड का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं। रेड मीट के इस्तेमाल से मोटापा, सूजन, कोलेस्ट्रॉल जैसी कई सेहत संबंधी समस्याएं धीरे-धीरे घर पर करने लगती हैं। सीफूड में खासतौर से फिश का सेवन कई मायनों में लाभकारी होता है। इसमें प्रोटीन के साथ ही भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 मौजूद होता है जो बॉडी फैट कम करने के साथ ही चेहरे के ग्लो को भी बनाए रखता है।

कम मात्रा में खाना

कम मात्रा में खाना भी जापानी खानपान कल्चर का खास हिस्सा है। अच्छा खाने के साथ ही थोड़ा खाओ। राइस बाउल और फ्लेट्स भी बाकी जगहों की तुलना में छोटे होते हैं। जिसमें थोड़ा सा खाना भी बहुत ज्यादा नजर आता है और साथ ही ये चम्मच की जगह चॉपस्टिक्स का इस्तेमाल करते हैं। धीरे-धीरे चबाकर खाने की आदत न सिर्फ डाइजेशन सही रखने के लिए बेहतर है बल्कि वजन कम करने में भी।

पैदल चलने का कल्चर

वॉक को आप एक्सरसाइज की सबसे बेसिक स्टेप कह सकते हैं जिस ओर हम उतना ध्यान नहीं देते या फिर जब बहुत ज्यादा वजन बढ़ जाता है तब इसकी शुरूआत करते हैं जबकि जापानी लोग शुरू से ही इस चीज़ को फॉलो करते हैं जिससे उनका वजन बढ़ता ही नहीं है। पैदल चलने के अलावा साइकिलिंग भी यहां के लोग प्रिफर करते हैं जो दूसरी बहुत ही बेहतरीन एक्सरसाइज है। इससे कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ दुरुस्त रहने के साथ ही बॉडी भी स्लिम-ट्रीम रहती है।

समय पर खाना

हेल्थ और फीगर को मेनटेन करने के लिए बैलेंस डाइट के साथ ही जरूरी है सही समय पर खाना। जापान में शायद ही पैदल चलते आपको कोई बर्गर और कोल्‍ड ड्रिंक पीता हुआ नजर आएगा। इसके अलावा खाने के समय टीवी देखना, काम करना और किसी भी दूसरे तरह के मूवमेंट भी नहीं किए जाते। समय पर खाना खाने की आदत से आप कुछ ही खाने से बचते हैं जो एक बहुत ही अच्छी आदत है।


नींद नहीं आती है रातों में? अपनाएं ये उपाय

नींद नहीं आती है रातों में? अपनाएं ये उपाय

अच्छी नींद से बेहतर शरीर के लिए कुछ भी नहीं है दिन भर की थकान और बॉडी के सेल्स में हुए डैमेज की नींद भरपाई करती है लेकिन कई लोगों के साथ नींद न आने की गंभीर समस्या होती है थकान के बावजूद बिस्तर पर जाते ही नींद का भाग जाना आपकी स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल अच्छा नहीं है हम आपको बेहतर नींद के लिए कुछ टिप्स दे रहे हैं जिन्हें अपनाने पर आप रात को शाँति से सो पाएंगे

दरअसल, नींद नहीं आने के कई कारण है जैसे कैफीन, निकोटीन का अधिक सेवन करना, किसी भी तरह की दवा का सेवन करना, लगातार कार्य करना, कार्यालय और घर के बीच तालमेल नहीं बैठना इसके साथ ही तनाव आपकी नींद का सबसे बड़ा शत्रु है निगेटिव सोच, बेवजह का डर और चिंता आपके श्वसन तंत्र को उत्तेजित करती है जिसकी वजह से आपकी नींद हराम हो जाती है

अगर आप भी आधी रात तक जागते हैं और दिन तक सोते हैं तो हम आपको अच्छी नींद लाने के कुछ प्राकृतिक तरीकों के बारे में बताते है, जिनकी सहायता से आपको शीघ्र नींद भी आएगी और आप एनर्जेटिक भी महसूस करेंगे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे टीवी और मोबाइल की ब्लू लाइट से आपके दिमाग को दिन होने की आसार लगती है, इससे मेलाटोनिन हॉर्मोन अपना ठीक तरह से कार्य नहीं कर पाता

मेलाटोनिन हॉर्मोन अच्छी नींद के लिए उत्तरदायी होता है सोने से दो घंटे पहले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे मोबाइल का इस्तेमाल न करें, यदि आप इनका इस्तेमाल कर रहे हैं तो चश्मा लगाकर करें इससे लाइट का सीधा प्रभाव आपकी आंखों पर नहीं पड़ेगा

दिन के दौरान सूर्य के प्रकाश के सम्पर्क में आने से आपकी सर्कैडियन रिदम को रेगुलेट किया जा सकता है सर्कैडियन प्रणाली जिसे जैविक घड़ी भी बोला जाता है, ये प्राकृतिक दैनिक चक्र है जो आराम और गतिविधि के पैटर्न को नियंत्रित करता है सर्केडियन रिदम लोगों को नियमित नींद और जागने के शेड्यूल को बनाए रखने में सहायता करता है आपको प्रतिदिन सूरज की रौशनी जरूर लेनी चाहिए


कच्चे ऑयल के दम पर की 2021 में जमकर कमाई       e-Vehicle: केजरीवाल सरकार का चार्जिंग स्टेशन बढ़ाने पर जोर       Atom 1.0 बाइक से केवल 7 रुपये में करें 100 किलोमीटर का सफर       गर्म पानी पीने से हो सकता है स्वास्थ्य को ये नुकसान!       नींद नहीं आती है रातों में? अपनाएं ये उपाय       उरी बेस कैंप पहुंचे Vicky Kaushal, इंडियन आर्मी संग फोटोज़ शेयर कर बोले...       ये प्यारी सी 'डिमांड' भी कर दी, Sonu Sood ने बिहार की बहन के लिए दिखाई दरियादिली       इस मंदिर में चढ़ाया जाता है इंसान के निजी अंग का डमी मॉडल, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान       सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार कैपिटलाइजेशन 1.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा       करोड़ों में लगी Twitter के CEO के पहले ट्वीट की बोली...       इस दिन लगेगा खरमास, जानें इस दौरान क्या करें       बस इन नियमों का करना होगा पालन, सूर्य देव को अर्घ्य देने से बन जाते हैं कैसे भी बिगड़े काम       RSWS 2021: इंग्लैंड ने बांग्लादेश लीजेंड्स को हराया, केविन पीटरसन की धुआंधार बैटिंग       खिताबी सिक्सर लगाने उतरेगी रोहित की मुंबई, RCB से खेलेगी पहला मैच       44 लेयर में भरी जाएगी राम मंदिर की 15 मीटर गहरी नींव, पारंपरिक शैली में होगा निर्माण       दुनियाभर में फैली दहशत, कोरोना महामारी पर WHO ने दी चेतावनी       आर्मी तक पहुंची वैक्सीन, रिटायर्ड सैन्य कर्मियों का टीकाकरण       गौतम बुद्ध के ये अनमोल वचन बदल देंगे आपकी जिंदगी       कब से शुरू हो रहा है खरमास, नहीं कर पाएंगे कोई शुभ कार्य       मार्च में है महाशिवरात्रि, होली, विजया एकादशी जैसे महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार