इन अस्पतालों में भी एक मार्च से इन शर्तों पर दी जाएगी कोरोना वैक्सीन

इन अस्पतालों में भी एक मार्च से इन शर्तों पर दी जाएगी कोरोना वैक्सीन

केंद्र सरकार ने बुधवार (24 फरवरी) को घोषणा कर जानकारी दी कि देश में 1 मार्च से कोरोना वायरस वैक्सीनेशन का दूसरा फेज़ शुरू होने वाला है। इस फेज़ में उन लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी जिनकी उम्र 60 से ज़्यादा है। साथ ही उन लोगों को भी लगाई जाएगी जिमकी उम्र 45 से ज़्यादा और वे किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। ऐसे लोगों को बीमारी से संबंधित काग़ज़ात भी दिखाने होंगे।

वैक्सीन के दूसरे चरण में केंद्र सरकार ने नियमों में कुछ बदलाव भी किए हैं। पहले दूसरे चरण में 50 से ज़्यादा की आयु के लोगों को वैक्सीन लगनी थी, लेकिन अब इसे बदलकर 60 कर दिया गया है।

प्राइवेट अस्पताल में फ्री नहीं होगी वैक्सीन

केंद्र मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ये साफ कर दिया है कि सरकार ने करीब 20 हज़ार अस्पतालों को चुना है, जहां कोरोना की वैक्सीन लगाई जाएगी, लेकिन वहां वैक्सीन के लिए पैसे भी देने होंगे। वहीं सरकारी वैक्सीन सेंटर्स में कोरोना की वैक्सीन मुफ्त में लगाई जाएगी। केंद्र सरकार कुछ दिनों में प्राइवेट अस्पतालों में वैक्सीन के दाम को भी तय करेगी। प्रकाश जावड़ेकर ने ये भी साफ किया कि एक बार वैक्सीन के दाम तय हो जाएं, फिर कैबिनेट के सभी मंत्री भी पैसे देकर ही वैक्सीन लगवाएंगे। 


वैक्सीन चुनने का विकल्प अभी नहीं

60 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों का डेटा Co-Win एप में फीड किया जाएगा। 45-50 की तुलना में 60 साल से ज़्यादा की उम्र के लोगों की आबादी कम है। प्राइवेट अस्पतालों में भी कोविशील्ड या कोवैक्सीन में से एक ही दी जाएगी। हालांकि, ये अभी साफ नहीं है कि लोग अपने लिए वैक्सीन चुन सकते हैं या नहीं। 

पिछले हफ्ते ही केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने घोषणा की थी कि एक मार्च से 60 साल से ज़्यादा के लोगों को भी कोरोना वैक्सीन की डोज़ लगनी शुरू कर दी जाएगी। पहले फेज़ में फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोना वायरस वैक्सीन लगाई गई थी। अब दूसरे फेज़ में 60 से ज़्यादा उम्र वालों को वैक्सीन लगाई जाएगी।


कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से गर्भवती महिलाओं को घबराने की नहीं, सजग व सतर्क रहने की है जरूरत

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से गर्भवती महिलाओं को घबराने की नहीं, सजग व सतर्क रहने की है जरूरत

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण लोगों में तनाव ज्यादा है। गर्भवती महिलाओं के जेहन में भी तमाम तरह के सवाल उठ रहे हैं। देहरादून स्थित कंबाइंड मेडिकल इंस्टीट्यूट की वरिष्ठ स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ सुमिता प्रभाकर की सलाह गर्भवती महिलाओं के लिए काफी अहमियत रखती है। उनका कहना है कि यह वक्त घबराने का नहीं, बल्कि सजग एवं सतर्क रहने का है।

गर्भस्थ शिशु में नहीं होता संक्रमण

आज तक कोरोना का वायरस एमनियोटिक द्रव या ब्रेस्ट मिल्क के नमूनों में नहीं पाया गया है। भ्रूण में किसी तरह के संक्रमण का कोई प्रमाण नहीं है। ऐसा भी कोई डाटा नहीं है, जो सिद्ध करता हो कि कोरोना वायरस संक्रमण से गर्भपात या गर्भस्थ शिशु नुकसान की संभावना बढ़ जाती है।

ब्रेस्ट फीडिंग कराते समय भी मास्क पहनें

मेडिकल रिपोर्ट बताती हैं कि ब्रेस्ट मिल्क से वायरस संक्रमण का खतरा नहीं है। चूंकि यह वायरस रेस्पिरेट्री ड्रॉपलेट्स के जरिए फैलता है, इसलिए स्तनपान कराते वक्त मास्क पहनें। ब्रेस्ट फीडिंग और बच्चों को उठाने से पहले अच्छे से हाथ धो लें जिससे नवजात में संक्रमण का खतरा न के बराबर रहे।

श्वसन प्रणाली को स्वस्थ रखें

इस समय बाहर वॉक पर नहीं जाया जा सकता इसलिए श्वसन प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए योग एक अच्छा विकल्प है। प्राणायाम आपके फेफड़ों को मजबूत करने के साथ ही रक्त संचार बढ़ाने में भी मदद करेगा। पर्याप्त आराम लेना जरूरी है। साथ ही पानी भी खूब पीती रहें।

इम्यूनिटी पर दें ध्यान

विटामिन डी और सी से शरीर को मजबूती मिलेगी। विटामिन डी के लिए बालकनी में बैठकर धूप ले सकती हैं। नींबू, आंवला, संतरा आदि से विटामिन सी की पूर्ति होती है। इससे सर्दी-जुकाम से लड़ने में मदद मिलती है। हड्डियों के पोषण और रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखने के लिए कैल्शियम भी बहुत जरूरी है। इसके लिए पालक खाएं। प्रोटीन के लिए दाल, हरी सब्जी, मौसम फल आदि भरपूर लें।


काम के बीच 5 मिनट का ब्रेक लेकर इन स्ट्रेचिंग एक्सरसाइजेस के जरिए करें अपनी एनर्जी चार्ज       कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से गर्भवती महिलाओं को घबराने की नहीं, सजग व सतर्क रहने की है जरूरत       लॉकडाउन के समय इन एक्सरसाइज़ से सिर्फ 7 दिनों में घटेगा वज़न!       लॉकडाउन में अवसाद से बचना है तो अपने आपको मनोरंजन में मसरूफ रखें       बदलते मौसम में सेहत के प्रति सचेत रहने के साथ ही इन जरूरी बातों का भी रखें ध्यान       ब्रेकफास्ट में सीरियल कितनी मात्रा में लेना रहेगा सेहत के लिए फायदेमंद       बार-बार हाथ धोने से हाथों की खूबसूरती कम हो गई है तो इस तरह रखें ख्याल       लॉकडाउन पीरियड का उठाएं फायदा, हेल्दी और बैलेंस डाइट के अलावा इन टिप्स के साथ करें बैली फैट कम       स्वाद के साथ सूंघने की क्षमता बंद हो जाना भी हो सकता है COVID-19 का लक्षण       ई-सिगरेट या स्मोकिंग से बढ़ सकता है कोरोना वायरस का ख़तरा       क्या टीबी वैक्सीन कर पाएगी कोरोना वायरस से बचाव?       अगर रहना चाहते हैं फिट तो डाइट में ज़रूर शामिल करें दालचीनी!       हार्वर्ड के शोधकर्ताओं का दावा, कोरोना से सूंघने की क्षमता भी होती है कम       रातों में अच्छी नींद के लिए लें जायफल, कोरोना से लड़ाई में भी मिलेगी मदद       विटामिन सी और किचन में मौजूद मसालों से बूस्ट होगा इम्यून सिस्टम       पाक को जी-20 से ऋण में राहत की उम्मीद, आर्थिक मामलों के मंत्री खुसरो बख्तियार ने दी जानकारी       दीपक हुड्डा ने 6 छक्कों के साथ ठोकी तूफानी फिफ्टी, बना दिया IPL में अद्भुत रिकॉर्ड       ये है भारत की सबसे सस्ती ABS वाली मोटरसाइकिल, देती है जबरदस्त माइलेज       भविष्य की चुनौतियों से निपटने को तैयार होगा स्वस्थ भारत, जानिए बजट में आपके स्वास्थ्य को लेकर क्या है खास       पति और बेटे की कोरोना से मौत पर महिला ने सदमे में तोड़ा दम